आगामी विधानसभा चुनावों से पूर्व राजनैतिक दलों का प्रत्याशी चयन को लेकर चल रहा मंथन, कांगे्रस में दावेदारों की भीड

0
481

लोकतंत्र के महाकुम्भ में मतदान के पर्व की सुनिश्चितता होते ही क्षेत्र में राजनैतिक सरगर्मियां परवान पर चढ रही है जिसमें पहले प्रदेश स्तर पर तथा अंत में केन्द्रीय समिति की ओर से सभी विधानसभाओं में प्रत्याशी चुने जाऐंगे। मालपुरा-टोडारायसिंह विधानसभा क्षेत्र में लम्बे समय से जीत के लिए तरस रही कांगे्रस के लिए यह चुनाव महत्वूपर्ण माना जा रहा है। विधानसभा चुनावों से पहले ही सम्पूर्ण प्रदेश में सत्ता के खिलाफ चल रही लहर का फायदा इस बार कांगे्रस को मिलने की पूरी संभावना नजर आ रही है। विधानसभा चुनाव के मद्देनजर एक तरफ जहां कांगे्रस पार्टी के भीतर दावेदारों को लेकर मंथन चल रहा है, वहीं दूसरी ओर पार्टी के वरिष्ठ नेता ऐसी सीटो का खाका तैयार करने में जुटे है जिन सीटों पर पार पाना पार्टी प्रत्याशियों के लिए असंभव सा रहा है। इन सीटों पर पार्टी की हार का क्रम कैसे तोडा जाए इसे लेकर उच्च स्तर पर भारी मंथन किया जा रहा है। मालपुरा-टोडारायसिंह विधानसभा सीट पर दोनों ही प्रमुख राजनैतिक दल भाजपा व कांगे्रस में टिकिटार्थियों की लम्बी सूची है परंतु इस बार कांगे्रस में करीब एक दर्जन से अधिक प्रत्याशी अपना भाग्य आजमाने को आतुर है। कांगे्रस की ओर से टिकिट पाने के प्रयास में कई दिग्गज तो कई नए चेहरे शामिल है। कांगे्रस की ओर से प्रत्याशी बनने की दौड में पूर्व मंत्री डॉ.चन्द्रभान, डॉ.सुरेन्द्र व्यास, पूर्व जिला प्रमुख रामविलास चौधरी, नए चेहरे के रूप में घासीलाल चौधरी, पंकज दाधीच, घनश्याम गुर्जर, सौभाग्य सिंह कच्छावा, रामफूल गुर्जर, गोपाल गुर्जर सहित अन्य नाम प्रमुखता से सामने आ रहे है। जातिगत समीकरणों के आधार पर जाट व गुर्जर समाज का दावा मजबूत है तो पूर्व के परिणामों में अनुसार सत्ता पर काबिज रह चुके डॉ.सुरेन्द्र व्यास की कांगे्रस में वापसी ब्राह्मण समाज से प्रत्याशी चयन का दावा मजबूत करती नजर आती है। जाट समाज व गुर्जर समाज की ओर से कई पुराने तो कई नए चेहरे मेदान में है। पिछले चार चुनावों में दो बार जाट समाज व दो बार गुर्जर समाज को पार्टी ने प्रत्याशी बनाकर चुनाव लडवाया लेकिन उस वक्त डॉ.सुरेन्द्र व्यास के निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में हर बार चुनाव लडने से पिछले पांच विधानसभा चुनावों में कांगे्रस को जीत नसीब नहीं हो पाई। कांगे्रस के प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट के प्रयासों के बाद हर बार निर्दलीय प्रत्याशी बनकर कांगे्रस की गणित बिगाडने वाले डॉ.सुरेन्द्र व्यास की इस बार कांगे्रस में वापसी हो चुकी है जिसे सुखद माना जा सकता है। इस बार माली समाज ने भी जातिगत समीकरणों एवं कांगे्रस में निष्ठा का इनाम मांगते हुए अधिकार मंच के तहत सर्वसमाज की बैठक आयोजित कर माली समाज से सौभाग्य सिंह को प्रत्याशी बनाए जाने की मांग की है। कांगे्रस ने जिस प्रकार अन्य राज्यों में प्रयोग करते हुए पुराने चेहरों की जगह नए चेहरों को मौका देकर अच्छे परिणाम प्राप्त किए है उससे लगता है कि शीर्ष नेतृत्व द्वारा गहन मंथन के बाद क्षेत्र में इस बार पुराने चेहरों को छोडकर नए चेहरों को मौका देकर जीत का सूखा दूर किया जा सकता है। क्योंकि जनता इस बार पुराने व घिसे-पिटे मोहरों से ज्यादा युवा व नए चेहरों के साथ जुडने को आतुर दिखाई दे रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here